यह पृष्ठ सदस्य अनिरुद्ध कुमार का वार्ता पन्ना है, जहाँ आप अनिरुद्ध कुमार को संदेश भेज सकते हैं और इनसे चर्चा कर सकते हैं।

सुरक्षा हटाने हेतु अनुरोधसंपादित करें

नमस्ते अनिरुद्ध जी। हाल में आपने कुछ विभाग पृष्ठों को सुरक्षित किया है ताकि उन्हें केवल प्रबंधक ही संपादित कर पायें। उनमें अनावश्यक रूप से पृष्ठ की सुरक्षा के साथ सीढ़ीदार सुरक्षा भी सक्रिय है। कृपया इसे हटा दें ताकि उनमें प्रयुक्त साँचे संपादित किये जा सकें।

ये विभाग हैं:

धन्यवाद। --SM7--talk-- ०२:५१, १८ मई २०२० (UTC)

@SM7: जी, उपरोक्त पृष्ठो का सुरक्षा स्तर स्थापित सदस्यों का कर दिया गया है तथा सुरक्षा सीढ़ी भी हटा दी गई है। धन्यवाद। अनिरुद्ध कुमार (वार्ता) ०३:५८, १८ मई २०२० (UTC)
जी, धन्यवाद। कुछ अतिमहत्वपूर्ण साँचों को एक स्थाई रूप देने के बाद उन्हें अलग-अलग पूर्ण सुरक्षित करना उचित रहेगा। मैं कुछ दिनों में इनकी सूची बना कर आपको देता हूँ ताकि इन महत्वपूर्ण साँचों में कोई छेड़छाड़ न कर सके। --SM7--talk-- ०४:१०, १८ मई २०२० (UTC)

पूर्णता स्थिति अनुसार पुस्तकों के लिए श्रेणियाँसंपादित करें

नमस्ते अनिरुद्ध जी,

कृपया श्रेणियों के नाम हिंदी में सुझाएँ जिनका प्रयोग साँचा:स्थिति द्वारा किया जा सके। अभी यह साँचा केवल एक नाम हिंदी में जोड़ता है:

अन्य नाम अंग्रेजी में हैं:

  • Partly developed books - 25% के लिए
  • Half-finished books - 50% के लिए (यह इसी अंग्रेजी नाम से निर्मित भी है, जिसे बिना अनुप्रेषण छोड़े स्थानांतरित भी करना होगा)
  • Books nearing completion - 75% के लिए
  • Completed books - 100% के लिए

साथ ही इन्हें एकत्र रखा जाना है, जिसके लिए अंग्रेजी में श्रेणी नाम है: Category:Books by completion status जिसके लिए हिंदी में नाम होना चाहिए। हालाँकि अभी श्रेणी:पुस्तक समाप्ति स्थिति/सभी पुस्तकें निर्मित है जिसके आधार पर कार्य करें तो इसे "श्रेणी:पुस्तक समाप्ति स्थिति" के नाम से बनाना होगा, अन्यथा कोई और नाम चुनने पर "श्रेणी:पुस्तक समाप्ति स्थिति/सभी पुस्तकें" का नाम भी उसी अनुसार बदलना होगा।


बल्कि हो सके तो आप इन्हें बना ही दें, मैं साँचे में सुधार कर दूँगा।--SM7--talk-- ०३:०७, २० मई २०२० (UTC)

@SM7: जी, मैने श्रेणियाँ बना दी हैं-।

इसके साथ ही साँचा:स्थिति भी सुधार दिया है। आप देख लें। अनिरुद्ध कुमार (वार्ता) १०:१७, २१ मई २०२० (UTC)

जी, धन्यवाद। कृपया श्रेणी:नई शुरू की गई पुस्तकें, श्रेणी:Half-finished books, और श्रेणी:Books nearing completion को हटा दें। --SM7--talk-- १२:३४, २१ मई २०२० (UTC)
@SM7: जी, धन्यवाद। उपरोक्त श्रेणियाँ हटा दी हैं। अनिरुद्ध कुमार (वार्ता) १८:०१, २१ मई २०२० (UTC)

आयातसंपादित करें

नमस्ते अनिरुद्ध जी, मुझे मैंने अभी हाल के कुछ आयात देखे जिनमें काफ़ी सारे साँचे पुनः आयात हो गए हैं। मुझे लगता है आप आयात करते समय "सभी साँचे शामिल करें" का विकल्प दिखाने वाला चेक बॉक्स भी चिह्नित करके इन्हें आयात कर रहे हैं जिससे पृष्ठ पर उपयोग हो रहे सभी साँचे उप साँचे आयात हो जा रहे। कृपया आयात करते समय सेटिंग जाँच लें। स्रोत विकी और स्रोत पृष्ठ के विकल्पों के नीचे तीन चेक बौक्स वाले विकल्प हैं। इनमें से केवल पहला विकल्प "इस पृष्ठ के सभी इतिहास अवतरण कॉपी करें" ही सही चिह्नित रखे अगर आप नया साँचा आयात कर रहे हों, बाकी के के विकल्प नहीं। और पहला विकल्प भी हटा दें अगर साँचे का केवल विवरण पन्ना आयात कर रहे हों।

साथ ही हमारा भरसक प्रयास होना चाहिए कि अंग्रेजी विकिपुस्तक से साँचे आयात करें, हिंदी अथवा अंग्रेजी विकिपीडिया से नहीं। धन्यवाद। --SM7--talk-- ०६:०१, २८ मई २०२० (UTC)

@SM7: जी, आप ठीक कह रहे हैं। साँचा संबंधी एक और बात जानना चाहता हूँ। मेरा अनुभव है कि यदि साँचा पहले से मौजूद हो तो उसका नया संस्करण आयात नहीं होता है। यदि ऐसा है तो समूह में साँचा आयात करना हानिकारक नहीं होगा किंतु यदि पहले से मौजूद साँचे पुनर्लेखित हो जाएं तो सामूहिक साँचा आयात बहुत ही खतरनाक सिद्ध हो सकता है। आप अपना अनुभव बताएं क्या इस तरह कभी कोई समस्या आी है? अनिरुद्ध कुमार (वार्ता) १६:५७, २८ मई २०२० (UTC)
मेरा अनुभव कटु रहा है। साँचा पहले से मौजूद होना आयात को नहीं रोकता बल्कि यदि वह आयातित स्रोत के अनुसार अद्यतन है तब कोई बदलाव नहीं आयात होता; पर समूह में साँचे आयात करते समय यह न तो पहले से जाँचा जा सकता न इससे कोई लाभ है।
जैसे साँचा:BOOKNAME फरवरी से तीन बार आयात हो चुका है; दो बार इसे साँचा:पुस्तकनाम पर भेजा जा चुका और अगर यही उद्देश्य था कि हिंदी नाम से इसे प्रयोग करें तो अब फिर यह एक अवतरण नया आयात हो जाने के कारण बदल चुका है और इसके हिंदी में बनाए और स्थानीय रूप से सुधारे साँचे (साँचा:पुस्तकनाम/श्रेणी, साँचा:पुस्तकनाम/प्रयोक्ता, साँचा:पुस्तकनाम/पुस्तकमें और साँचा:पुस्तकनाम/मूल तथा साँचा:पुस्तकनाम/प्रकारक का कोई इस्तेमाल नहीं हो रहा। इससे फिर कई जगहों पर त्रुटि उत्पन्न हो गई है। ऐसे और भी होंगे/हो सकते हैं जिन्हें मैंने चेक नहीं किया। इस प्रकार तो आसानी या समय के बचाव की जगह इसके विपरीत परिणाम ही हो रहे।
अन्य साँचों में भी देश आँकड़े इत्यादि के साँचे विकिपीडिया के लिए उपयुक्त हैं। हम छपने योग्य किताब लिख रहें हैं यहाँ विकिपीडिया जैसे प्रदर्शन या आतंरिक कड़ियाँ जोड़ने की कोई आवश्यकता नहीं है। ज्ञानकोश में आवश्यक है कि एक पन्ने को पढ़ते समय कोई लिंक पकड़ कर तुरंत कहीं और कुछ पढने हेतु आवागमन कर सके। अगर हम निर्वाचित पुस्तक बना लेते हैं तो उसे अंतत pdf में उपलब्ध होना है जिसे कोई छाप कर पढ़ सके। उसमें इन सब चीजों की कोई आवश्यकता नहीं होगी।
इसी प्रकार साँचा:EngvarB जैसे साँचे ख़ासतौर पर सिर्फ़ अंग्रेजी विकिपीडिया मात्र के लिए हैं जो इस प्रक्रिया में आयात हो गए हैं। इसका इस्तेमाल हम कभी न करने वाले क्योंकि यह यह सूचना देता है कि पृष्ठ पर ब्रिटिश अंग्रेजी लिखा जाय।
अतः अपने कटु अनुभव से बता रहा। साँचे एक एक करके आयात करना बेहतर है। और उसका उपयोग हमारे काम का है अथवा नहीं यह भी जाँचना आवश्यक है। आप आयात अनुरोध निरस्त भी कर सकते हैं।--SM7--talk-- १४:२५, २९ मई २०२० (UTC)
@SM7:, आप ठीक कह रहे हैं। किंतु अभी पिंग तथा सुनो दोनों तरह के साँचे प्रयुक्त हो रहे हैं। क्या कोई ुपाय है जिससे तीनों तरह के साँचे लिखने से होने वाला काम एक ही साँचे से हो जाय। पुनर्निर्देशन की व्यवस्था इसमें काम नहीं कर रही थी। अनिरुद्ध कुमार (वार्ता) १७:३४, ४ जून २०२० (UTC)
जी, मैंने अभी इन्हें साँचा:Reply to पर पुनर्निर्देशित कर दिया है और परीक्षण हेतु जाँच कर देखा है। ये सभी काम कर रहे। हो सकता है आपने जाँचा हो तब कोई और कारण रहा हो। पिंग तबतक काम नहीं करता जबतक इसके प्रयोग के साथ ही हस्ताक्षर भी न किया गया हो। इन सभी के पहले प्रयोग के समय ही चार टिल्ड डाल कर हस्ताक्षर करना आवश्यक है। बाद में हस्ताक्षर दूसरे संपादन में जोड़ा जाय तब भी नहीं काम करता। --SM7--talk-- ०५:४९, ५ जून २०२० (UTC)
अभी देखा यह दुहरे पुनर्निर्देश के कारण हो रहा था। साँचा:सुनिए एक अन्य साँचा:सुनिये पर पुनर्निर्देशित था जबकि साँचा:सुनिये स्वयं ही साँचा:Reply to पर पुनर्निर्देशित था। सुधार कर दिया है। --SM7--talk-- ०५:५५, ५ जून २०२० (UTC)

किताब पूर्ण हो जाने से संबंधित प्रश्नसंपादित करें

सर नमस्ते, सर मेरी किताब ( हिंदी भाषा और उसकी लिपि का इतिहास) पूर्ण हो चुकी है। अब आगे क्या करना होगा?Md.Kaish.Khan (वार्ता) ११:५१, २९ मई २०२० (UTC)

@Md.Kaish.Khan:, किताब पूर्ण होने के बाद इस किताब पर आपको कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। हाँ यदि ाप चाहें तो अन्य पुस्तकों पर कार्य कर सकते हैं। अनिरुद्ध कुमार (वार्ता) २३:४६, २ जून २०२० (UTC)